is protein powder necessary for fitness?

आपने अपने दोस्तों, पड़ोसियों  या फिर GYM ट्रेनर द्वारा अक्सर प्रोटीन पाउडर के बारे में सुना होगा कि यह बॉडी बनने में मदत करता है, आइये जानते हैं  कि इन बाते में कितनी सच्चाई है। 

क्या प्रोटीन पाउडर लेना आवश्यक है ?




प्रोटीन पाउडर के असर के बारे में जानने से पहले ये जान लेते हैं कि प्रोटीन होता क्या है और बनता कैसा है।

प्रोटीन पाउडर  दरअसल दूध से सारी चर्बी निकलने के बाद का बचा हुआ पदार्थ है, और इसमें चर्बी (fat)  कि मात्रा न के बराबर होति है। 

प्रोटीन पाउडर में 20 प्रकार के amino acids होते है जो हमारी शरीर के लिए बहोत उपयोगी होते हैं, amino acids हमारि मांशपेशियों को आराम पहचाने अथवा इसकी वृद्धि में भि सहायता करता है। लेकिन क्या सिर्फ प्रोटीन खाने भर से हमारे हमारि मांशपेशियों का विकास होता है? इसका जवाब है नहीं,  प्रोटीन सिर्फ तब असरदार होता है जब आप प्रतिदिन व्यायाम द्वार अपने मांशपेशियों पर दबाव डालते हैं ताकि उनका विकाश हो सके। 

हमरि शरीर को रोज अपने वजन के बराबर कि मात्रा कि प्रोटीन कि जरूरत होति है , यदि आप अपनि मांसपेशियों को बढ़ाना चाहते है तो प्रोटीन कि जरूरत डेढ़ से दो गुना बढ़ जाति है। उदाहरण के तौर पर यदि आपका वजन 70kg है तो आपको प्रतिदिन 105kg -140kg ग्राम प्रोटीन कि जरूरत होगी। 

बहुत से लोग ये सवाल भी करते है कि क्या प्रोटीन लेना जरूरी होता है ? इसके जवाब मे हम यह कहेंगे कि नही ये बिलकुल जरूरी नहीं है और आप अपने प्रतिदिन कि जरूरत अपने भोजन द्वारा पूरा कर सकते है जैसे कि  अंडे , चने , सोयाबीन , मांसाहार  इत्यादि द्वारा।  लेकिन अगर आप महंगे प्रोटीन्स को खरीदने कि छमता रखते है तो ये सबसे अच्छा विकल्प होगा।

आपके पास अब एक और सवाल जरूर होगा कि क्या प्रोटीन पाउडर के पदुष्प्रभाव होते है? इसका जवाब कुछ हद तक हाँ है , जिन लोगो को दूध या दहि से अलेर्जी होती है  उन्हें जुलाब या पेट से सम्बंधित समस्याएं हो सकती है। इसीलिए आप प्रोटीन के सेवन से पहले डॉक्टर्स कि सलाह जरूर ले. लीवर एवं किडनी के रोगि बिना सलाह प्रोटीन का इस्तेमाल न करे। 
अगर आपको हमारा ये ब्लॉग अच्छा लगा तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर कीजिये 

0 comments:

Post a Comment