ऋषिकेश - पूरी जानकारी हिंदी में

क्या आप विश्व की योग राजधानी - ऋषिकेश जाने कि योजना बना रहे हैं? अगर हाँ तो आप सही स्थान पर हैं जहां हम आपको ऋषिकेश से संबंधित सभी विषयो कि जानकारी देंगे।

To read in English click here.

ऋषिकेश - विश्व कि योग राजधानी

ऋषिकेश हिमालय की तलहटी में स्थित है और गंगा नदी से घिरा हुआ है। ऋषिकेश अपनि मंदिरो, adventure activities, और योग के लिए प्रसिद्ध है। 

rishikesh tourism place



कैसे पहुंचें

ऋषिकेश, उत्कर्ष में एक शहर है जो लगभग राजधानी दिल्ली से 250 कि.मी. कि दुरी पर स्थित है। ऋषिकेश के पास का निकटतम रेलवे स्टेशन हरिद्वार और निकटतम हवाईअड्डा देहरादून है। 

ऋषिकेश पहुंचने के लिए आप दिल्ली पहुचकर कश्मीरी गेट से सीधी बस प्राप्त कर सकते हैं या प्राइवेट टैक्सी का इस्तमाल हैं। बस से यात्रा करने पर आपको 500 से 1000 रुपये खर्च करने पड़ सकते हैं ओर प्राइवेट टैक्सी से यात्रा करने पर लगभग 3000 रुपए खर्च करने पड़ सकते हैं। प्राइवेट टैक्सी के लिए आप OLA आउट स्टेशन एक अच्छा विकल्प है,  यदि आप 3 से 4 लोगो के समूह में यात्रा कर रहें हैं तो आपके लिए प्राइवेट टैक्सी एक अच्छा विकल्प है क्यूंकि यह मात्र 3000 रुपए में आपको एयरपोर्ट या रेलवे  स्टेशन से सीधा ऋषिकेश के होटल तक पहोचा देगा।

यदि आप ट्रेन से यात्रा कर रहे हैं, तो आप हरिद्वार स्टेशन पहुँचकर लोकल टैक्सि ले सकते है जिसके लिए आपको 50-100 रुपए प्रति व्यक्ति खर्च करने पड़ सकते हैं। 

यात्रा लगभा 5 -6 घंटो कि होती है इसीलिए रात्रि में यात्रा करना लाभदायक होगा ताकि आप अगला दिन घूमने में व्यतीत कर सकें। 

खाना और रहना :

यदि आप अकेले या दोस्तों क साथ यात्रा कर रहे है तो आप होस्टल्स में ठहर सकते है जो कि काफी किफायती विकल्प है। ऋषिकेश में लक्ष्मण झूला रहने के लिए सबसे अच्छी जगह है जहा से लगभग सारी घूमने योग्य स्थान  नजदीकी दूरी पर है और यहाँ काफि अच्छे होस्टल्स कि व्यावस्था है। हमारी सलाह यही होगी कि आप रहने कि बुकिंग 7 से 10 दिन पहले ऑनलाइन करवालें ताकि आपको होटल्स ढूंढने में दिक्कत न हो। 

होस्टल्स लगभग 300 रुपए प्रति व्यक्ति प्रति दिन कि दर में मिल जाता है। अगर आप होटल रूम्स में ठहरना चाहते हैं तो आपको 1000 -1500 रुपए प्रति दिन खर्च करने पड़ सकते हैं। ऋषिकेश मे 400 से 800 के बीच बाइक्स भि किराये पर मिल जाती है जो कि काफि किफायती और सहूलियत भरा विकल्प है। 

ऋषिकेश में लोग मांसाहार और शराब का सेवन नहीं करते इसीलिए आपको मांसाहार होटल्स और शराब कि दुकाने ऋषिकेश में नहीं मिलेंगी।





पहला दिन :

रात भर कि यात्रा के बाद अगले दिन आप रिवर राफ्टिंग करने कि योजना बना सकते हैं , जिसके लिए आप को हर गली में एजेंट मिल जायेंगे। रिवर राफ्टिंग के लिए काफि सारे  विकल्प है जैसे कि 9KM , 12KM  इत्यादि,  हम आपको यही सलाह देंगे कि आप 9KM कि राफ्टिंग करें जसके लिए आपको लगभग 300 रुपए प्रति व्यक्ति खर्च करना पड़ सकते हैं।  

रिवर राफ्टिंग के बाद  आप bungee jumping  का विकल्प चुन सकते है जिसके लिए आपको लगभग 3000 रुपए खर्च करने पड सकते हैं लेकिन इसमें भीड़ कि वजह से आपका काफी समये चला जाता है। तो यदि आप अपना समाये बचाना चाहते हैं तो आप इसकी ऑनलाइन बुकिंग एडवांस में कर सकते है  (www.jumpingheights.com/booknow.html)

bungee jumping  के अलावा बहोत से एडवेंचर स्पोर्ट्स केऑप्शन है जैसे कि firefox, giant swing इत्यादि जिसकी जानकारी आप इस वेबसाइट से प्राप्त कर सकते है




दिन 2   :

दूसरे दिन आप बीटल्स आश्रम का प्लान कर सकते हैं जो कि लक्मन झूला से लगभग 4KM कि दूरी पर है। 
बीटल्स आश्रम पहले चौरासी कुटिया के नाम से प्रसिद्ध था और  1960 -1970 के दौरान एक आध्यात्म शाला के रूप में  महर्षि महेश योगी द्वारा चलाया जाता था। चौरासी कुटिया को बीटल्स आश्रम कि पहचान तब मिली जब ब्रिटेन के मशहूर बैंड "द बीटल्स" ने अध्यात्म और ध्यान कि शिक्षा के लिए इस आश्रम में 11 दिन व्यतीत किये।

बीटल्स आश्रम में प्रवेश के लिए भारतीयों को 150 रुपए और विदेशियों को 600 रुपए तक खर्च करने पड़ सकते हैँ। यह आश्रम शाम 5 बजे बंद कर दिया जाता है तो आप समाये का ध्यान रखें। 

ऋषिकेश में बहोत सि चौपाटिया (beaches) स्थित हैं जहाँ आप गंगा के बहते पानी कि मधुर आवाज के बीच सफ़ेद रेतो में और एकांत में अपनी शाम बिता सकते हैं जो कि हमारे सबसे बेहरतीन पलो में से एक है। शायद हम इसे नीचे दी हुई तस्वीर से व्यतीत कर पाएं।





शाम में चौपाटी का आनंद लेने के बाद आप गंगा आरती देखने के लिए त्रिवेणी घाट जा सकते हैं जो कि लक्मण झूला से लगभग 10KM कि दूरी पर है। वैसे गंगा आरती के लिए और भि बहोत सारे विकल्प हैं लेकिन त्रिवेणी घाट कि आरती बहुत ज्यादा प्रसिद्द है। त्रिवेणी घाट कि आरती शाम 7 बजे समाप्त हो जाती है इसीलिए आप यहाँ 6 के पहले पहुंचने का प्रयत्न करें।

यदि आप धार्मिक है और आपके पास एक और दिन घूमने के लिए है तो आप नीलकंठ मंदिर जा सकते हैं जो कि लगभग लक्मन झूला से 60KM कि दूरी पर है। 

यदि आपके पास घूमने के लिए और समय है तो आप मसूरी या धनौल्टी जा सकते हैं जो कि ऋषिके से काफि काम दूरी पर स्थित प्रसिद्ध हिल स्टेशन हैं। धनौल्टी में आप दिसंबर  से फेब्रुअरी महीनो के बीच बर्फ़बारी का भि मजा ले सकते है। 


rishikesh tourism area


हमारा ये ब्लॉग कैसा लगा आप हमें कमेंट कर जरूर बताएं।

0 comments:

Post a Comment